The Ministry

मंत्रालय के बारे में?

नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई) नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा से संबंधित सभी मामलों के लिए भारत सरकार का नोडल मंत्रालय है। देश की ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा का विकास और स्थापना करना ही मंत्रालय का व्यापक ध्येय है।

मिशन

स्वस्थ पृथ्वी के लिए हमारी प्रतिबद्धता, और जलवायु परिवर्तन पर पेरिस समझौते के अनुसार हमारे राष्ट्रीय निर्धारित योगदान की पृष्ठभूमि में, भारत ने संकल्प लिया है कि 2030 तक, 40% स्थापित बिजली उत्पादन क्षमता स्वच्छ स्रोतों पर आधारित होगी। यह निर्धारित किया गया था कि 2022 तक 175 जीडब्ल्यू नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता स्थापित की जाएगी। इसमें सोलर से 100 जीडब्ल्यू (गीगावाट), पवन से 60 जीडब्ल्यू, जैव-शक्ति से 10 जीडब्ल्यू और लघु जलशक्ति से 5 जीडब्ल्यू सम्मिलित हैं।

निम्न को सुनिश्चित करना मंत्रालय का मिशन है

  • ऊर्जा सुरक्षा: घरेलू तेल आपूर्ति और मांग के बीच अंतर कम करने में योगदान के लिए हाइड्रोजन, जैव ईंधन और संश्लेषित ईंधन और उनके अनुप्रयोगों आदि वैकल्पिक ईंधन का विकास और स्थापना; तेल आयात पर निर्भरता में कमी
  • स्वच्छ बिजली की हिस्सेदारी में वृद्धि: जीवाश्म ईंधन आधारित बिजली उत्पादन के पूरक के रूप में पवन, जल, सोलर, भूतापीय, जैव और ज्वारीय बिजली आदि नवीकरणीय।
  • ऊर्जा की उपलब्धता और सुलभता: ग्रामीण, शहरी, औद्योगिक और वाणिज्यिक क्षेत्रों में खाना पकाने, तापन (हीटिंग), चालन शक्ति और कैप्टिव उत्पादन की ऊर्जा ज़रूरतें पूरी करना
  • किफायती ऊर्जा: लागत-प्रतिस्पर्धी, सुविधाजनक, सुरक्षित, किफायती और विश्वसनीय ऊर्जा आपूर्ति विकल्प
  • ऊर्जा समता: स्थायी और विविध ईंधन मिश्रण के माध्यम से 2050 तक प्रति व्यक्ति ऊर्जा खपत वैश्विक औसत स्तर के बराबर करना

विज़न

अंतर्राष्ट्रीय विनिर्देशों, मानकों और प्रदर्शन मानकों के समकक्ष नई प्रौद्योगिकियों, प्रक्रियाओं, सामग्रियों, घटकों, उप-प्रणालियों, उत्पादों और सेवाओं के माध्यम से नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा की क्षमता विकसित करते हुए, ऊर्जा विकास का राष्ट्रीय लक्ष्य प्राप्त करने हेतु इसका विकास और स्थापना सुनिश्चित करना।

व्यवसाय का आवंटन

  • राष्ट्रीय सोलर मिशन के अंतर्गत ग्रिड से कनेक्टेड सौर ऊर्जा परियोजनाओं का क्रियान्वयन
  • नवीकरणीय बिजली क्षमता (पवन या सोलर) बढ़ाने के लिए प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया का आयोजन करना
  • सोलर पार्क स्थापित करना
  • सोलर लालटेन, सोलर स्ट्रीट लाइट, सोलर होम लाइट, सोलर पम्प, आदि विकेंद्रीकृत सोलर अनुप्रयोगों की स्थापना में सहयोग करना।
  • खाना पकाने, प्रकाश व्यवस्था, चालन शक्ति, स्थान तापन (स्पेस हीटिंग), गर्म पानी उत्पादन, आदि के लिए ऊर्जा की मांग पूरी करने के लिए ऑफ ग्रिड और विकेंद्रीकृत नवीकरण कार्यक्रम लागू करना।
  • भारतीय तटरेखा के साथ-साथ भारतीय विशेष आर्थिक क्षेत्र (ईईजेड) में अपतटीय पवन ऊर्जा विकसित करने के लिए सोलर-पवन हाइब्रिड नीति, राष्ट्रीय अपतटीय पवन ऊर्जा नीति का क्रियान्वयन करना।
  • शोध, नवप्रवर्तन, और प्रौद्योगिकी विकास और प्रदर्शन, परीक्षण और मानकीकरण हेतु सत्यापन में सहयोग के लिए मजबूत परिवेश का निर्माण, स्टार्ट-अप से संबंधित नवप्रवर्तन के लिए पुरस्कार।
  • 25 एमडब्ल्यू (मेगावाट) क्षमता और इससे कम वाली छोटी/लघु/सूक्ष्म जलबिजली परियोजनाओं से संबंधित सभी मामले
  • जैव ईंधन: (i) राष्ट्रीय नीति; (ii) परिवहन, स्थैतिक और अन्य अनुप्रयोगों पर अनुसंधान, विकास और प्रदर्शन; (iii) एक राष्ट्रीय जैव ईंधन विकास बोर्ड की स्थापना और मौजूदा संस्थागत तंत्र को मजबूत बनाना; और (iv) समग्र समन्वय।
  • अपशिष्ट से ऊर्जा परियोजनाओं की स्थापना
  • ऊर्जा भंडारण और बिजली गतिशीलता को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय ऊर्जा भंडारण मिशन हेतु नीति और नियामक ढांचे को सक्षम बनाना
  • भारतीय नवीकरणीय ऊर्जा विकास एजेंसी (आईआरईडीए); एकीकृत ग्रामीण ऊर्जा कार्यक्रम (आईआरईपी)

कार्य

ग्रामीण, शहरी, औद्योगिक और वाणिज्यिक क्षेत्रों में परिवहन, वहनीय (पोर्टेबल) और स्थिर अनुप्रयोगों के लिए अनुसंधान, डिजाइन, विकास, निर्माण और नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा प्रणालियों/उपकरणों की स्थापना में निम्न के माध्यम से सुगमता प्रदान करना:

  • प्रौद्योगिकी मानचित्रण और बेंचमार्किंग
  • अनुसंधान, डिजाइन, विकास और निर्माण में महत्त्वपूर्ण क्षेत्रों की पहचान और सुगमता प्रदान करना
  • अंतरराष्ट्रीय स्तर के समकक्ष मानकों, विशिष्टियों और कार्यप्रदर्शन मापदंड स्थापित करना और उनकी प्राप्ति हेतु उद्योगों को सुगमता प्रदान करना
  • नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादों और सेवाओं की लागतें अंतरराष्ट्रीय स्तर के अनुरूप व्यवस्थित करना और उनकी प्राप्ति हेतु उद्योगों को सुगमता प्रदान करना
  • अंतरराष्ट्रीय स्तर की उपयुक्त गुणवत्ता आश्वस्ति मान्यता और उसकी प्राप्ति हेतु उद्योगों को सुगमता प्रदान करना
  • कम से कम संभव समय में अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्राप्ति हेतु निरंतर उन्नयन प्रभावी करने के ध्येय के साथ नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादों और सेवाओं के प्रदर्शन मापदंडों पर निर्माताओं को निरंतर प्रतिक्रिया प्रदान करना
  • उद्योग जगत को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धी तथा निवल विदेशी मुद्रा अर्जक बनने हेतु सुगमता प्रदान करना, संसाधन सर्वेक्षण, मूल्यांकन, मानचित्रण और प्रसार
  • राष्ट्रीय ऊर्जा सुरक्षा और ऊर्जा स्वतंत्रता के लक्ष्य के अनुरूप नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादों और सेवाओं को स्थापित करने की आवश्यकता वाले क्षेत्रों की पहचान करना
  • जैव ईंधन:

o    राष्ट्रीय नीति

o    परिवहन, स्थैतिक और अन्य अनुप्रयोगों पर अनुसंधान, विकास और प्रदर्शन

o    राष्ट्रीय जैव ईंधन विकास बोर्ड की स्थापना और वर्तमान संस्थागत तंत्र को सुदृढ़ बनाना

o    समग्र समन्वय

  • स्वदेशी रूप से विकसित और निर्मित विभिन्न नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादों और सेवाओं को स्थापित करने की रणनीति
  • नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा आपूर्ति के लागत कुशल विकल्पों का प्रावधान