उपलब्धियां

Printer-friendly version

केंद्र सरकार सौर ऊर्जा प्रौद्योगिकियों के विकास और संवर्धन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। केंद्र में राष्ट्रीय सौर ऊर्जा कार्यक्रम के लिए तकनीकी केन्द्र बिन्दु रहा है। अपनी भूमिका को करने के लिए सक्षम करने के लिए केंद्र में बनाया सुविधाएं सबसे उन्नत और भारत में अद्वितीय है और दक्षिण एशियाई क्षेत्र हैं। केंद्र के लिए एक अग्रणी संस्थान के रूप में आज मान्यता प्राप्त है

  1. सौर संसाधन आकलन
  2. प्रौद्योगिकी आकलन
  3. सौर इमारतें
  4. सिस्टम डिजाइन
  5. उभरती प्रौद्योगिकियों के मूल्यांकन
  6. सौर उपकरणों का परीक्षण और मानकीकरण
  7. जैव ईंधन वृक्षारोपण

अपने क्रेडिट करने के लिए, नीचे दिए गए के रूप में अलग ढांचागत और अनुसंधान एवं विकास सुविधाओं के विकास से केंद्र सरकार भी कई अन्य महत्वपूर्ण उपलब्धियों की है।

मुख्य उपलब्धियां:

  • सौर ऊर्जा उत्पादों के लिए विकास के लिए उद्योग को तकनीकी सहायता
  • सौर तापीय उपकरणों के लिए राष्ट्रीय मानकों के विकास
  • परीक्षण में एकरूपता को प्राप्त करने के लिए सौर तापीय और सौर पीवी उपकरणों के लिए परीक्षण प्रोटोकॉल के प्रतिष्ठानों देश के भीतर विभिन्न अधिकृत एजेंसियों द्वारा किया जाता है।
  • इस तरह के सौर तापीय विद्युत उत्पादन, सौर प्रशीतन, सौर अलवणीकरण, जैव ईंधन और अन्य प्रौद्योगिकियों के रूप में महत्वपूर्ण सौर ऊर्जा विषयों पर तकनीकी रिपोर्ट / कागज के एक नंबर की तैयारी।
  • केंद्र में एक 46 किलोवाट सौर पीवी बिजली परियोजना भी शामिल है जो तकनीक का प्रदर्शन परियोजनाओं के एक नंबर की स्थापना।
  • यूएनडीपी, यूएसएड और जीटीजेड से सहायता के तहत सौर ऊर्जा अनुसंधान और परीक्षण के लिए राज्य के अत्याधुनिक सुविधाओं की स्थापना।
  • सौर ऊर्जा केंद्र के तकनीकी ब्लॉक के एक भाग के लिए एक सौर बाष्पीकरणीय शीतलन प्रणाली की स्थापना।
  • गर्मी संग्रह तत्वों जैसे कुछ महत्वपूर्ण घटकों इंदग्निनीज़िंग द्वारा 50 किलोवाट ई सोलर थर्मल पावर प्लांट को फिर से जीवित। संयंत्र अनुसंधान एवं विकास, प्रदर्शन एवं शैक्षिक सुविधा के रूप में प्रयोग में है।
  • जटरोफा कर्कस और पोंगनिअ पिन्नाटा के 26,000 व 500 पौधे 2005-06 के दौरान जैव ईंधन कार्यक्रम के तहत क्रमश लगाए गए हैं।
  • एसईसी के स्वदेशी और विदेशी वनस्पति सहित दोनों एक जैव विविधता रिपोर्ट तैयार की।
  • पोस्टर जटरोफा की खेती से तकनीकी जानकारी देने यानी तैयार प्रस्तुति सामग्री जैव-डीजल के उत्पादन के लिए कर्कस।